in

Modi washed the feet of sanitation workers but did anything change after that?

24 फरवरी 2019 को कुंभ मेले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पांच सफ़ाईकर्मियों के पांव धोए थे. उनमें दो महिलाएं भी थीं. एक चौबी और दूसरी ज्योति. उनकी तस्वीरें देशभर की टीवी स्क्रीनों पर दिखाई गईं. बीबीसी ने उत्तर प्रदेश के बांदा की रहने वाली इन महिलाओं से मुलाक़ात की और ये पता लगाया कि आख़िर 24 फ़रवरी के बाद उनकी ज़िंदगी में क्या बदलाव आए? दोनों को जीवन में आज भी भेदभाव झेलना पड़ रहा हैं. दोनों के जीवन में बुनियादी सुविधाओं की कमी है और दोनों को सरकारी नौकरी चाहिए.
वीडियो: सरोज सिंह/पीयूष नागपाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading…

0

Comments

राजनाथ सिंह लखनऊ से आज भरेंगे पर्चा

राजनाथ सिंह लखनऊ से आज भरेंगे पर्चा

सुनलो संबित पात्रा मोदी तुम्हारा बाप हो सकता हे हमारा नहीं-Kanhaiya Kumar Firing Speech Begusray